Swachata Par Nibandh – Swachh Bharat Par Nibandh

Swachata Par Nibandh : आप सभी का स्वागत है हमारी वेबसाइट Moral Hindi story पर. आज हम जानने वाले है Swachata Par Nibandh के बारे में.

Swachata Par Nibandh आप यहाँ से पढ़ भी सकते है और स्कूल के बच्चे यहाँ से स्टडी कर सकते है और Swachata Abhiyan par Nibandh भी लिख सकते है और यह Nibandh आप आगे यूज़ भी कर सकते है.

 

Swachata Par Nibandh – Swachata Abhiyan par Nibandh

 

आज हम विस्तार से जानने वाले हैं स्वच्छ भारत पर निबंध यानी कि स्वच्छता पर निबंध तो हमारा यह पोस्ट पूरा पढ़ें.

 

स्वागत है आप सभी का हमारी वेबसाइट मोरल हिंदी स्टोरी में उम्मीद करते हैं दोस्तों कि आपको हमारे सभी पोस्ट पसंद आते होंगे. आज हम फिर एक नए टॉपिक के साथ हाजिर है. आज हम बात करने वाले हैं स्वच्छता पर निबंध के बारे में.

Read Also : Tulsidas Jivan Parichay

स्वच्छता एक ऐसा माध्यम है जिससे हम कई रोगों से मुक्ति पा सकते हैं. इसी के मद्देनजर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 145 वे जन्मदिन पर स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत की.

स्वच्छता अभियान (Swachata Abhiyan) जन जागरूकता और जन सहभागिता पर आधारित है. इस अभियान का नारा है एक कदम स्वच्छता की ओर. यह अभियान संपूर्ण भारत को स्वच्छ करने का उद्देश्य से किया गया है.

इस अभियान का लक्ष्य खुले में शौच की प्रवृत्ति को मुक्ति दिलाना, नगर निकायों में अपशिष्ट प्रबंध की क्रियाओं को बढ़ावा देना. साफ-सफाई को लेकर निजी क्षेत्र की भागीदारी को सुगम बनाना आदि शामिल है.

विश्व बैंक के एक रिपोर्ट के अनुसार भारत प्रति व्यक्ति औसतन 6500 रुपया का नुकसान सिर्फ गंदगी की वजह से कर रहे हैं. जिसमें स्वास्थ्य पर सबसे बड़ा हिस्सा खर्च होता है.

स्वच्छ भारत मिशन के लक्ष्यों का यदि सही ढंग से पालन किया जाए तो 2019 के महात्मा गांधी के 150 वें जन्मदिन पर उनके गंदगी मुक्त भारत के सपने को साकार किया जा सकता है.

यह अभियान न केवल स्वास्थ्य सुधार बल्कि पर्यटक का बढ़ाओ देगा. व्यापार जीवन स्तर आदि में तीव्र बदलाव आएगा. इसके लिए सिर्फ सरकार ही नहीं परंतु प्रत्येक नागरिक को आगे आना होगा. तभी इस योजना का सफल बनाया जा सकता है.

Read Also : Inspirational Story

स्वच्छ भारत अभियान एक राष्ट्रीय मुहिम है, जो भारत सरकार द्वारा स्थापित किया गया है. स्वच्छ भारत अभियान (Swachh Bharat Abhiyan) की शुरुआत भारत के 15 प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 2 अक्टूबर 2014 को नई दिल्ली के वाल्मीकि बस्ती से की गई. स्वच्छ भारत अभियान को दो और नाम भी दिए गए हैं – भारत मिशन (Bharat Mission) और (Swachata Abhiyan) स्वच्छता अभियान.

स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनाने के लिए भारतीय सरकार ने बहुत कदम उठाई है. जैसे प्रतियोगिता एवं घर कचरा पात्र रखवाला. शौचालय निर्माण के लिए राशि देना. स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य भारत को 2019 तक स्वच्छ बनाना. हर भारतवासी को शौचालय की सुविधा उपलब्ध कराकर खुले में शौच को पूरी तरह खत्म करना. बेकार के शौचालयों को फ्लशिंग शौचालयों में परिवर्तन करना. ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना. इस अभियान की सफलता के लिए कुछ कानून भी बनाए गए और स्वच्छता फैलाने वालों को जुर्माना भी लगाया गया है.

भारत सरकार ने स्वच्छ भारत मिशन को दो भागों में बनाया है. प्रथम स्वच्छ भारत मिशन शहरों के लिए और दूसरा स्वच्छ भारत मिशन गांव के लिए. सरकार ने शहरी क्षेत्रों के स्वच्छ भारत मिशन में 1.04 करोड़ परिवार को लक्षित करते हुए 2.5 लाख सामुदायिक शौचालय 2.6 लाख सार्वजनिक शौचालय और प्रत्येक शहर में एक ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की व्यवस्था की है. प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने स्वच्छ भारत अभियान को लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए स्वच्छ भारत कोष का निर्माण किया, जिसके लिए स्वच्छ भारत अभियान के लिए फंड एकत्रित किया जाता है.

स्वच्छ भारत अभियान से देश को आर्थिक और सामाजिक लाभ होने के कुछ अनुमान लगाए जा रहे हैं. जैसे रोजगार के अवसरों में बढ़ोतरी जीडीपी विकास दर में बढ़ोतरी. दुनिया के पर्यटकों का भारत में आगमन बढ़ाना. मृत्यु दर में कमी. बीमारियों में कमी. अंतरराष्ट्रीय निवेशकों में वृद्धि इत्यादि.

अगर आपको यह हमारा आर्टिकल Swachata par Nibandh अच्छा लगे तो आगे शेयर जरूर कीजिए और कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताइए की आपको हमारा यह निबंध कैसा लगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *