Story On Happiness Hindi : Moral Hindi Story सुखी होने के रास्ते

Story On Happiness Hindi : आप सभी का स्वागत हे हमारी वेबसाइट Moral Hindi Story में. आप हमारी वेबसाइट पर कई अलग अलग तरह की Story पढ़ सकते हे. अगर आपको हमारी Story On Happiness Hindi अच्छी लगे तो आप हमें निचे कमेंट करके जरूर बताइए की आपको यह Hindi Story कैसी लगी. तो चलो आज पढ़ते हे एक नई कहानी..

Story On Happiness Hindi

 

किसी ने बड़ी कमाल की बात कही है कि 

 

सुखी (Way Of Happinessहोने के कई सारे रास्ते हैं, 

लेकिन औरों से ज्यादा सुखी होने का और कोई रास्ता नहीं है.

आज हम एक छोटी सी कहानी (Story) बताने जा रहे हैं एक कैब ड्राइवर (Cab Diver) की. जिसका नाम था वैली और एक दूसरे व्यक्ति की जिसने एक कैब बुक किया जिसका नाम था हरवी. हरवी एयरपोर्ट से बाहर निकला और वह कैब बुक कर चुका था और वह एयरपोर्ट से बाहर आया तो अपनी कैंब का इंतजार कर रहा था तभी एक चमचमाती कार आकर खड़ी हो गई. हरवी एक बार चौक गया! क्या जो उसने गाड़ी बुक की है वह यही गाड़ी है? उसने नंबर चेक किया वही गाड़ी थी. ड्राइवर बाहर निकल कर आया उसने पीछे का दरवाजा खोला और हरवी के हाथ में एक मिशन स्टेटमेंट थमा दिया जिसमें लिखा था वैलीज मिशन स्टेटमेंट. उसने बताया कि उसका नाम वैली है. मैं आपका ड्राइवर हूं. आपका सामान पीछे डिक्की में रख रहा हूं तब तक आप इसे पढ़ लीजिए.

उसमें वह व्यक्ति पढ़ने लगा तो उसमें लिखा था मैं आपको आपकी डेस्टिनेशन तक चीपेस्ट तरीके से सस्ते दाम में सबसे जल्दी पहुंचाने की कोशिश करूंगा और सैफ तरीके से पहुंचाने की कोशिश करूंगा. आपको कोई दिक्कत नहीं आएगी. हरवी यह सोच रहा था की कैब ड्राइवर के पास इतना सब कुछ है और वह अंदर गाड़ी में बैठा तो चौक गया. गाड़ी एकदम साफ सुथरी थी बिल्कुल नई गाड़ी. हरवी अब सोच ही रहा था तब वैली ने पूछा सर आपको ऐसी ठीक लग रहा है?  टेंपरेचर बढ़ाना – है तो आप बता दीजिए ,हरवी ने कहा नहीं सब कुछ ठीक है तभी वैली ने कहा कि सर आप ये कार्ड लीजिए इसमें सारे रेडियो स्टेशन की डिटेल(Radio Station Detail) है और म्यूजिक की डिटेल है और आपको जो रेडियो रेडियो स्टेशन सुनना है आप मुझे बता दीजिए और रेडियो स्टेशन आपके लिए मैं प्ले कर दूंगा. हरवी भी सोच रहा था कि यह बड़ा कमाल का बंदा है. फिर वैली ने कहा क्या आप आज का कोई न्यूज़ पेपर पढ़ना चाहेंगे? मेरे पास बहुत सारे न्यूज़ पेपर है. आप जो पढ़ना चाहते हे वह मुझे बता दीजिए. वेली ने उसको एक न्यूजपेपर थमा दिया.

 

हरवीं अब सोच रहा था  तब वैली ने कहा कि आप कुछ लेना पसंद करेंगे? चाय – कॉफी कुछ? तो उसने कहा कि नहीं मुझे तो सॉफ्ट ड्रिंक चाहिए, तो वैली ने कहा कि सर आपकी ठीक सामने एक छोटा सा फ्रीज है उसमें से निकाल लीजिए. उसमें सॉफ्ट ड्रिंक है. आपको जो चाहिए वह मिल जाएगा. वॉटर मिल जाएगा ऑरेंज जूस मिल जाएगा. हरवी अब सोच रहा था तब वैली ने फिर से बोलना शुरू किया कि सर अगर आप कुछ पूछना चाहते हो हमारे शहर के बारे में किसी जगह के बारे में तो आपको मैं बता सकता हूं. चलते चलते हम बात करेंगे तो आप का रास्ता भी कट जाएगा. हरवीने पूछ ही लिया कि मेरे भाई एक बात बताओ क्या आप हमेशा जो भी कस्टमर बैठता है उसको इसी तरह कैसे ट्रीट करते हो? इतने अच्छे से बात करते हो, इतना सब कुछ उसको देते हो, वेली ने कहा कि नहीं आज से 5 साल पहले मैं यह सब नहीं करता था. 5 साल हो गए मुझे ड्राइविंग करते हुए और केब चलाते हुए लेकिन, इन 5 सालों में पिछले 1 साल से मै यह सब करने लगा हूं. जो पिछले 4 साल थे उसमें मैं बिल्कुल नॉर्मल था लेकिन, एक दिन एक रेडियो के व्यक्ति ने रेडियो चैनल पर एक स्टोरी सुनाइ.

 

उस व्यक्ति ने मुझे एक डक और ईगल की कहानी (Hindi Motivational Story) सुनाई थी. डक हमेशा नीचे रहती है और ईगल हमेशा दुनिया के ऊपर उड़ती है. उस व्यक्ति ने इस कहानी में बताया कि हमें इस दुनिया में हमें कुछ अलग करना है तो दुनिया से अलग बनना होगा और उस दिन उस व्यक्ति की कहानी मेरे दिमाग में इतना घर कर गई मैंने उस कहानी के बारे में इतना सोचा और मैंने देखा कि मेरे साथ के जो कैब वाले थे वह भी वैसे ही  कंप्लेन करते थे जैसे में करता था और हमें अपनी जॉब से भी नफरत थी.और फिर भी हम गाड़ी चला रहे हैं लेकिन उस दिन मैंने सोचा कि मैं कुछ अलग करूंगा तो शायद मुझे भी अच्छा लगेगा और मेरे साथ जो पैसेंजर होगा उससे भी अच्छा लगेगा. उस दिन से सर मैंने धीरे धीरे करके अपनी कार में इंप्रूवमेंट करना शुरू किया. मेंने अपनी कैब को बदलना शुरू किया और धीरे-धीरे एक-एक फैसिलिटी ऐड करना शुरू किया और आज तक मैं यह काम कर रहा हूं. आप बड़े लकी है कि आपके साथ मुझे ड्राइव पर आने का मौका मिला क्योंकि मेरी कैब हमेशा बुक रहती है. एक जो पैसेंजर मेरे साथ आ जाता है वह मेरा नंबर लेकर के जाता है और हर बार मेरे साथ ही ट्रैवल करता है. कई बार मैं बुक होता हूं तो मैं अपने दोस्तों को भेज देता हूं और उस पैसेंजर को कोई दिक्कत नहीं आने देता हूं यह मेरा कार्ड लीजिए अगर आपको भी कोई दिक्कत हो तो मुझे याद कर लीजिएगा. हरवी चौक गया सरप्राइस था! उसे आज तक इतना बढ़िया ड्राइवर नहीं मिला था.

 यह छोटी सी कहानी एक ड्राइवर की कहानी हमें सिखाती है कि हमें जिंदगी में डक की तरह कंप्लेंट करना बंद करना चाहिए हम कंप्लेंट करते रहेंगे तो जिंदगी में मजा नहीं आएगा जिस दिन आप ईगल बन जाएगे दुनिया के ऊपर उड़ेगे उस दिन आपको आएगा मजा और यह सब करने के लिए आपको दुनिया से अलग काम करना होगा. तो दोस्त कर दिखाओ कुछ ऐसा कि दुनिया करना चाहे आपकी जैसा.

अगर आपको हमारी यह Moral Hindi Story अच्छी लगी हे तो आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताइए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *