Paryavaran Par Nibandh – Hindi Essay On Environment

Paryavaran Par Nibandh : पर्यावरण पर निबंध. आज हम Paryavaran Par Nibandh के बारे में चर्चा करने जा रहे हैं और साथ ही साथ विश्व पर्यावरण दिवस के बारे में भी बात करने जा रहे हैं

आप सबका स्वागत है हमारी वेबसाइट Moral Hindi Story में. हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे पोस्ट पसंद आते होंगे और आपको हमारे पोस्ट पसंद आते हैं तो कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करें.

Paryavaran Par Nibandh

आज पर्यावरण प्रदुषण एक जरूरी सवाल है ऐसा नहीं है बल्कि पूरे विश्व के लिए गंभीर मुद्दा बना हुआ है. लेकिन बहुत अफसोस की बात है कि काफी बड़ी संख्या में लोग ना तो इसके बारे में ज्यादा जानते हैं और ना ही जानने की कोशिश भी करते हैं. इस धरती पर निवास करने वाला प्राणी श्वास लेता है तो उसको पर्यावरण के होने का एहसास भी होना चाहिए.

पर्यावरण दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है “परी” और “आवरण”. परी का अर्थ होता है चारों ओर और. आवरण का मतलब होता है ढका हुआ. यानी कि चारों ओर से ढका हुआ वह वातावरण जिसे हम चारों ओर से घिरे हुए हैं.

पेड़ पौधे जलवायु आदि सब पर्यावरण के अंतर्गत ही है. पृथ्वी के जीवन के लिए पर्यावरण ही सबसे अहम भूमिका निभाता है. जो सभी प्राणियों के जीवित रहने के लिए अनुकूल वातावरण तैयार करता है. हमारे जीवन को भी प्रभावित करने वाली समस्त कारक और घटनाएं जो रासायनिक है, जैविक या भौतिक है, पर्यावरण सब का मुख्य केंद्र है. जो इन सब में इनकी भागीदारी रखता है. जिससे हम चारों ओर से घिरे होने के साथ-साथ हमारी समस्त क्रियाएं पर्यावरण को सीधे-सीधे प्रभावित करती है. पर्यावरण के अनंत फैलाओ की बात करें तो इसमें सभी सूक्ष्मजीव और कीड़े मकोड़े से लेकर मानव और जानवर सभी आते हैं. और साथ ही सभी निर्जीव पदार्थ भी और यह किसी ना किसी रूप में पर्यावरण के होने से ही इस धरती पर मौजूद भी है. इन सभी की क्रिया वह किसी ना किसी रूप में पर्यावरण के रूप में प्रभावित करती है. चाहे तो सजीव से या फिर निर्जीव से घटनाएं जो प्रकृति अपनी मर्जी से करती है. आकाशी बादल, चमकती बिजली, वरसाद, तारों की टीम टीम, आहट यह सब प्राकृतिक है.

हमारे चारों ओर उपस्थित सभी चीजें हवा, पानी, जीव, जंतु इत्यादि सभी से मिलकर हमारा पर्यावरण बनाएं। यह सभी चीजें एक दूसरे को प्रभावित करते हैं.

Also Read : Swachata Par Nibandh

पर्यावरण दिवस हर साल पूरे विश्व में 5 जून को मनाया जाता है. 5 जून 1973 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस (Vishv Paryavaran Divas) मनाया गया था. इस दिवस की शुरुआत पर्यावरण की सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए की गई विश्वा पर्यावरण दिवस (World Environment Day) के अभियान की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र की महासभा के द्वारा की गई. यह प्रत्येक वर्ष जून के महीने में पांचवी तारीख को मनाया जाता है. यह मानव पर्यावरण पर स्टॉकहोम सम्मेलन के उद्घाटन के अवसर निकट भविष्य में पर्यावरण के मुद्दों पर ध्यान आकर्षित करने के लिए एक वार्षिक अभियान के रूप में घोषित किया गया था. यह दुनिया भर में गर्म वातावरण के मुद्दों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए एक मुख्य उपकरण के रूप में संयुक्त राष्ट्र द्वारा निर्मित किया गया था.

हम जो भी काम करते हैं उसका सीधा प्रभाव पर्यावरण पर पड़ता है. जैसे वाहनों से निकलने वाले धुएं कारखानों से निकलने वाली जहरीली गैसे और कूड़ा करकट इत्यादि पर्यावरण को दूषित करते हैं.

पर्यावरण से संबंधित कुछ समस्या है जैसे जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, मृदा प्रदूषण इत्यादि हमें इन समस्याओं पर गंभीर होने की आवश्यकता है. पर्यावरण दिवस मनाने का उद्देश्य पर्यावरण के प्रति लोगों में जागरूकता लाना है.

अगर आपको हमारा यह पोस्ट Paryavaran Par Nibandh अच्छा लगे तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताइए. यह पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *