Navratri Ki Shubhkamnaye Image – Navratri Quotes Hindi

Navratri Ki Shubhkamnaye Image : यहाँ पर आप Navratri Ki Shubhkamnaye Image in Hindi यहाँ से Download कर सकते हो. यहाँ पर हमने Navratri Quotes दिए हुए है और आपके परिवार तथा मित्रो को भेज सकते है. यहाँ से आप को Navratri Images Shayari भी मिल जाएगी.(Navratri Ki Shubhkamnaye Image – Navratri Quotes Hindi)

Navaratri Ki Shubhkamnaye Image

Navaratri Ki Shubhkamnaye Image

Navaratri Ki Shubhkamnaye Image

Navaratri Ki Shubhkamnaye Image

Navaratri Ki Shubhkamnaye Image

 

Navratri Ki Shubhkamnaye Image – Navratri Quotes Hindi

Navratri Ki shubhkamana #1

 

चांद की चांदनी बसंत की बहार,

फूलों की खुशबू अपनों का प्यार,

मुबारक हो आपको नवरात्री का त्योहार,

सदा खुश रहे आप और आपका परिवार शुभ नवरात्रि

Navratri Quotes #2

लाल रंग की चुनरी सजा मां का दरबार हर्षित हुआ,

संसार में नन्हें नन्हें क़दमों से मां आए,

आपके द्वार मुबारक हो आपको नवरात्री का त्योहार शुभ नवरात्रि

Shubh Navratri #3

लोगों ने कुछ दिया तो सुनाया भी बहुत है,

एक तेरा ही दर है जहां कभी ताना नहीं मिला है,

जय शेरावाली मां हैप्पी नवरात्रि

Navratri Ki Shubhkamanaye #4

मां भरदे जोली खाली,

मां वैष्णो वाली मां संकट हरने वाली मां,

विपदा मिटाने वाली मां के सभी भक्तों को नवरात्रि की शुभकामनाएं

Navratri Thought #5

हर पल खुशी कदम चूमे,

नवरात्रि में हम सब मिलकर झूमे,

होना कभी आपका दुख से सामना,

यही है आपको नवरात्रि की शुभकामना

Navratri Wishes #6

माता पर्व जब आता है,

हजारों खुशियां लाता है,

इस बार मैं आपको वह सब दे जो आपका दिल चाहता है,

शुभ नवरात्रि

Navratri Best Wish #7

सारा जहां है जिसकी शरण में,

नमन है उस मां के चरण में,

हम हैं उस मां के चरणों की धूल,

आओ मिलकर मां को चटाई श्रद्धा से फूल शुभ नवरात्रि

Navratri Quotes In Hindi #8

दुखहर्ता मंगल करती जय जय मां भगवती,

आप सभी को नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं

Best Navratri Wish In Hindi #9

दिव्य है आंखों का नूर,

करती है संकटों को दूर,

मां की छवि है निराली,

नवरात्रि में आई है खुशहाली शुभ नवरात्रि

Navratri Hindi Vichar #10

नवदीप जले नव फूल खिले,

रोज नहीं बाहर मिले,

नवरात्रि के इस अवसर पर,

आपको मां का आशीर्वाद मिले

 

Navratri Hindi Quotes #11

 

मां की ज्योति से प्रेम मिलता है,

सबके दिलों को मर्मम मिलता है,

जो भी जाता है मां के द्वार कुछ ना कुछ जरूर मिलता है,

शुभ नवरात्रि

Navratri Best Wishes In Hindi #12

देवी मां के कदम आपके घर में आए आप खुशी से नहाए,

परेशानी हो आप से आंखें चुराए,

नवरात्रि की आपको ढेरों शुभकामनाएं शुभ नवरात्रि

Navratri Shubhkamana In Hindi #13

हो जाओ तैयार मां अंबे आने वाली है,

सजा लो दरबार मां अंबे आने वाली है,

तन मन और जीवन हो जाएगा पावन,

मां के कदमों की आहट से गूंज उठे का आंगन

Best Navratri Ki Shubhkamana Hindi #14

मां दुर्गे मां,

अंबे मां,

जगदंबे मां.

भवानी मां,

शीतला मां,

वैष्णो मां.

चंडी माता,

रानी मां

आपकी मनोकामना पूरी करें शुभ नवरात्रि

Navratri Wish #15

मुद्दतों से चाहत थी मेरी तेरे चरणों में जगह पाने की,

कब से चाहत थी मेरी मां के गीत गुनगुनाने की हैप्पी नवरात्रि

Navratri Hindi Vichar #16

सजा दरबार है और एक ज्योति जगमग आई है,

नसीब जागेगा उन जागरण करने वालों का,

वह देखो मंदिर में मेरी माता मुस्कुराई है

Navratri Best #17

मां की शक्ति का वास हो,

संकटों का नाश हो,

हर घर में सुख शांति का वास हो,

जय माता दी शुभ नवरात्रि

Navratri Quotes Hindi #18

सारा जहां है जिसकी शरण में नमन है,

उस मां के चरण में हम हैं,

उस मां के चरणों की धूल आओ,

मिलकर मां को चढ़ाए श्रद्धा से फूल

Navratri Best Wish For Whatsapp #19

मां का सजा है कितना निराला दरबार मां,

सुनती है सब भक्तों की पुकार पूरे कर दो सारे हमारे अरमान,

इतनी दूर से आए हैं हम मां तेरे द्वार शुभ नवरात्रि हैप्पी नवरात्रि

Whatsapp Navratri Wish #20

लक्ष्मी का हाथ हो,

सरस्वती का साथ हो,

गणेश का निवास हो,

और मां दुर्गा के आशीर्वाद से,

आपके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश को हैप्पी नवरात्रि

Navratri Thought Hindi #21

जय माता दी,

मां का दरबार सजा दो,

प्रेम से संसार से,

जादू ज्योति जलेगी जब मां के नाम की,

अपने बुरे विचार जला दो.

Navratri Best For Whatsapp #22

इस नवरात्रि पर आपके लिए नो उपहार,

सुख, शांति, मृद्धि, संस्कार, फलता, संयम, रलता, स्वास्थ्य, संकल्प

शुभ नवरात्रि

Navratri Ki Shubhkamnaye #23

मां की आराधना का यह पर्व है,

मां के नौ रूपों की भक्ति का पर्व है,

बिगड़े काम बनाने का पर्व है,

भक्ति का दिया दिल में जलाने का पर्व है,

शुभ नवरात्रि

Also Read : Tulsidas jivan parichay 

Maa Ke Nav Svarup Ki Kahani – नवरात्रि के माँ के नौ स्वरूप

नवरात्र यह उत्सव है. शक्ति की आराधना का शक्ति की उपासना का 9 दिनों तक चलने वाले इस त्योहार में शक्ति के नौ रूपों की आराधना की जाती है. जिन्हें नवदुर्गा कहा जाता है.

देवी के नौ रूपों में से एक रूप है

शैलपुत्री

अपने पिता दक्ष प्रजापति द्वारा किए गए यज्ञ में अपने पति महादेव का अपमान होने पर देवी सती में यज्ञ कुंड में आत्मदाह कर लिया. अगले जन्म में देवी सती ने हिमालय के घर जन्म लिया. शैलराज हिमालय में जन्म लेने से मां का नाम शैलपुत्री पड़ा. माता नंदी की सवारी करती है और उसके दाएं हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल होता है. चलिए आज जानते हैं देवी के नौ रूपों के बारे में.

ब्रह्मचारिणी

मां शैलपुत्री ने नारद जी के उद्देश्य भगवान शंकर को पति रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की. मां भगवती ने सैकड़ों वर्षों तक जमीन पर रहकर केवल फल फूल खाकर भगवान की तपस्या की. तपस्या के अंत में कई वर्षों तक बिना कुछ खाए पिए तब किया इस कठिन तपस्या के कारण मां शैलपुत्री को तपस्या चारिणी अर्थात ब्रह्मचारिणी के नाम से जाना गया. मां ब्रह्मचारिणी का कोई वाहन नहीं है माता के दाएं हाथ में जाप माला और बाएं हाथ में कमंडल होता है.

Also Read : Moral Hindi Story

चंद्रघंटा

माता ब्रह्मचारिणी की कठिन तपस्या से प्रसन्ना होकर भगवान शिव ने माता से विवाह किया. भगवान शिव के विवाह के पश्चात माता की शीश पर अर्धचंद्र आ गया. चौकी 1 घंटे की तरह प्रतीत होता है. इसी वजह से माता का नाम चंद्रघंटा पड़ा. माता चंद्रघंटा की सवारी बाघ है. माता के हाथ में युद्ध के लिए अस्त्र-शस्त्र है वहीं उन्होंने कमल कमंडल तथा जाप माला भी धारण करी हुई है.

कुष्मांडा

माता का नाम 3 शब्दों से मिलकर बना है. कु अर्थात छोटा ऊष्मा अर्थात ऊर्जा और अंडा. पुराणों के अनुसार माता ने अपनी मनमोहक मुस्कान से ब्रम्हांड की रचना एक ऊर्जा के छोटे से अंडे के रूप में की थी. इसीलिए माता का नाम कुष्मांडा है. अष्टभुजा काली माता के चार हाथों में अस्त्र-शस्त्र होते हैं तथा अन्य चार हाथों में कमल कमंडल जाप माला तथा अमृत का घड़ा होता है.

स्कंदमाता

भगवान स्कंद जिन्हें कुमार कार्तिकेय के नाम से भी जाना जाता है. देवेश और संग्राम में देवताओं की सेनापति बने थे. इन्हीं भगवान स्कंद माता होने के कारण मां दुर्गा के इस रूप को स्कंदमाता के नाम से जाना जाता है. चार भुजा धारी स्कंदमाता शेर की सवारी करती है तथा इनके गोद में कार्तिकेय जी बैठे हुए हैं.

कात्यायनी

कातिया गोत्र के विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यान ने मां भगवती की कठिन उपासना की. उनकी इच्छा थी कि उनको पुत्री प्राप्त हो उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर मां भगवती ने रिसीवर के घर पुत्री के रूप में जन्म लिया. कात्यायन ऋषि के घर जन्म लेने के कारण देवी कात्यायनी कहलाए. कुछ अन्य कहानी के अनुसार जब दानव महिषासुर का अत्याचार पृथ्वी पर बढ़ गया तब त्रिदेव ने एक देवी को उत्पन्न किया. महा ऋषि कात्यायनी इनकी सबसे पहले पूजा की इसलिए इनका नाम कात्यायनी पड़ा.

कालरात्रि

असुर रक्त बीज के सहार करने के लिए मां दुर्गा ने अपनी स्वर्ण छवि से कालरात्रि माता की उत्पत्ति की. जब मां दुर्गा ने रक्तबीज का वध किया तब मां कालरात्रि ने रक्तबीज का सारा रक्त पृथ्वी आया तब पृथ्वी पर पढ़ने से पहले ही पीलिया ताकि उसकी पुनः उत्पत्ति ना हो पाए. मां कालरात्रि का वाहन गधा है. एवं माता का रंग काला है. मां कालरात्रि हमेशा शुभ फलदायक है. इसीलिए इन्हें शुभम कारी से नाम से भी जाना जाता है.

महागौरी

पुराणों के अनुसार जब मां ब्रह्मचारिणी शिवजी की प्राप्ति के लिए कठोर तप किया तब उनका शरीर बहुत दुर्बल और काला हो गया था. शिव जी के प्रसन्न होने के पश्चात माता ने गंगा में स्नान किया. गंगा में स्नान करने से मां का रूप अत्यधिक सुंदर एवं गोरा हो गया. इसी कारण माता का नाम महागौरी पड़ा। कुछ पुराणों के अनुसार रक्तबीज के सहार करने के पश्चात मां कालरात्रि ने गंगा में स्नान किया एवं अपनी सुंदर काया पुनः प्राप्त की. मां महागौरी नंदी की सवारी करती है. चार भुजा धारी माता के हाथ में एक हाथ में त्रिशूल एवं दूसरे हाथ में डमरु होता है.

सिद्धीदात्री

जैसे कि नाम से ही स्पष्ट है मां अष्ट सिद्धियों की स्वामी है. एवं अपने भक्तों को ही सिद्धियां देती है. पूर्णा के अनुसार शिव जी ने सिद्धियों की प्राप्ति के लिए मां सिद्धिदात्री की तपस्या की थी. इन्हीं सिद्धि योग की पश्चात भगवान शिव का आधा शरीर देवी का हुआ एवं और वह अर्धनारीश्वर कहलाए। मां सिद्धिदात्री कमल पर विराजमान होती है. माता की चारभुजा यह इन भुजाओं में माता ने क्रमशः गधा चक्र शंख एवं कमल पकड़ा हुआ है.

Also Read : Shree Hanuman Chalisa

नवरात्र के 9 दिन में माता के एक रूप की पूजा की जाती है. नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री की आराधना की जाती है. दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है. तीसरे दिन हम मां चंद्रघंटा की पूजा करते हैं. एवं चौथे दिन मां कूष्मांडा की आराधना की जाती है. नवरात्रि के पांचवें दिन भगवान कार्तिकेय की माता देवी स्कंदमाता की पूजा की जाती है. छठे दिन मां कात्यायनी एवं सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाती है. नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की आराधना होती है. एवं नव दिन मां सिद्धिदात्री की आराधना के साथ नवरात्रि की समाप्ति होती है.

हमारा यह आर्टिकल Navratri Ki Shubhkamnaye Image – Navratri Quotes Hindi पढ़ने के लिए आपका बहोत धन्यवाद. अगर आप कोई और जानकारी चाहते है तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताइए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *