Moral Story In Hindi – यह कहानी आप की सोच बदल देंगी

Moral Story In Hindi : आप सभीका स्वागत है हमारे वेबसाइटMoral Hindi Storyमें. आप हमारे इस वेबसाइट पर अलग अलग स्टोरी पढ़ सकते. हम Moral Hindi Story में नयी नयीStoryआपके लिए लाते रहेंगे. अगर आपको हमारी Story अच्छी लगती है तो आपका प्रतिभाव जरूर से दे.


आज हम जो कहानी कहने जा रहे हैं उसमें आपको यह लगेगा कि हमारी आंखों के सामने कुछ समस्या होती है उसका समाधान भी हमारी आंखों के सामने होता है. मगर हम उसको जान नहीं पाते और परेशान होते हैं. कई बार हम फालतू की जगह पर अपनी एनर्जी वेस्ट कर रहे होते हैं, जबकि उसका सॉल्यूशन बहुत आसान होता है.

 

Moral Story In Hindi

 

यह स्टोरी आपकी जिंदगी में आगे भी बहुत काम आ सकती है और इसे पूरी जरूर पढ़ना और अंत में जो मैसेज है उसको पढ़ कर आपका दिमाग भी बदल जाएगा.आपकी सोच भी बदल जाएगी.

एक शहर में एक अमीर इंसान रहता था. उसके पास बहुत पैसा था और उसको थोड़ा घमंड भी था. एक बार किसी कारण से उसकी आंखों में इंफेक्शन हो गया. इंफेक्शन की वजह से उसकी आंखों में बहुत बुरी तरह से जलन होती थी. वह डॉक्टर के पास गया और डॉक्टर उसकी बीमारी को समझ ही नहीं पाया. उसके पास बहुत पैसा था इसलिए वह दूसरे देश में गया अपनी आंखों का इलाज करवाने के लिए एक अच्छे डॉक्टर के पास और एक बड़े डॉक्टर ने बताया कि आपकी आंखों में एलर्जी है. एक ऐसी एलर्जी जिसकी वजह से आप हरा रंग ही देख पाओगे. अगर आप दूसरा रंग देखोगे तो आपकी आंखों में जलन होगी और आपकी आंखें और ज्यादा खराब होती जाएगी तो आप को हरा कलर ही देखना है. 

 

उसके पास बहुत पैसा था इसलिए उसने बहुत बड़े पेंटर को बुलाया और उसको बोला कि मैं जहां पर भी जाता हूं यह सब जो मेरी जगह है वह सब चीजें हरी कलर की कर दो. कितनी दीवार है आपको दिख रही है और जो भी चीजें दिख रही है वह सब हरी कलर की कर दो. जहां मैं जाता हूं जहां से मैं गुजरता हूं वह सारी जगह हरे कलर की कर दो. कोई भी चीज मुझे हरे कलर के अलावा मुझे दिखने नहीं चाहिए. इस काम में वह व्यक्ति ने बहुत सारा पैसा खर्च कर लिया लेकिन फिर भी कोई ना कोई चीज रह जाती थी जो हरे कलर की नहीं होती थी. जैसे आसमान है, ऊपर देखेगा तो नीला कलर का होता है, जैसे की खाना खाएगा तो वह हरी कलर की नहीं हो सकती तो ऐसा पॉसिबल नहीं हो पा रहा था कि वह सारी चीजें हरी कलर की कर दे और हर दिन पेंटर सारी चीजें हरी कलर की कर रहा है तो उसका भी खर्चा बहुत ज्यादा हो रहा था. वह रोजाना बहुत ज्यादा खर्चा कर रहा था. 

1 दिन हुआ ऐसा कि उस सिटी से एक होशियार व्यक्ति गुजर रहा था जिसकी सोच खुली हुई है और चारों तरफ हरी कलर की चीजें करी हुई है. ऐसा क्यों है इसका कारण लोगों से उसने पूछा की यह सब हरे कलर की क्यों की गई है? तो लोगों ने जवाब दिया कि यहां पर एक इंसान रहता है, वह बहुत अमीर है. जिसके पास बहुत पैसा है. और उसका पावर भी उतना है मगर उसकी आंखों में एक ऐसी एलर्जी हो गई है जिसकी वजह से वह हरे कलर के अलावा और कोई कलर देखेगा तो उसकी आंखें और ज्यादा खराब हो जाएगी तो इसका हल निकालने के लिए उसने शहर की सारी चीजें हरी कलर की कर दी. 

 

वह इंसान इंटेलिजेंट था तो उसने सोचा कि यह किसी और तरीके से भी सॉल्व हो सकती है. इसका तो कोई और भी उपाय है और वह व्यक्ति उस अमीर इंसान के पास गया. उसने पूछा कि आपने यह सारी चीजें क्यों की जो कि इसका कोई और भी हल है. तो उस अमीर इंसान ने बोला इसके अलावा और क्या उपाय है? आप मुझे है बताओ. तो उस इंटेलिजेंट इंसान ने कहा कि इसका सॉल्यूशन बहुत आसान है और बहुत सस्ता है. आप बेवजह हर रोज कितना खर्चा कर रहे हो. आप चाहो तो अभी इस का हल निकाल सकते हो और वह भी बिना ज्यादा पैसा खर्च किए, तो वह अमीर इंसान बोला कि जल्दी बताओ ऐसा क्या सॉल्यूशन है? तो उस इंटेलिजेंट इंसान ने बोला कि आप हरे कलर का चश्मा पहन लो जो कुछ ही रुपए का आएगा. तो आपको दूसरी कोई भी चीज हरी करने की जरूरत नहीं पड़ेगी उसके बाद उस अमीर इंसान की आंखें खुली की खुली रह गई और उसने देखा कि कितना आसान सॉल्यूशन था और मैं न जाने कितने ही तरह की चीजें किए जा रहा था और इसका सॉल्यूशन निकालने के लिए मेरी सोच कहां लगी हुई थी मेरा ध्यान कहां था जबकि सॉल्यूशन (Solution) इतना आसान था अगर मैं इसके बारे में ढंग से सोचता अगर मैं एक जगह ठहर के सोचता तो शायद मैं भी इसका सलूशन निकाल सकता था. मैं जल्दबाजी में यह सब किए जा रहा था जिसकी वजह से मेरी सोच छोटी पड़ गई. 

Also Read : Buddha Ki Kahani

तो दोस्तों हमें अपनी सोच को बड़ी करने की जरूरत है हमें अपना नजरिया बदलने की जरूरत है कहीं प्रॉब्लम्स लाइफ में ऐसी होती है जो बहुत आसान होती है उसको सॉल्व करना भी बहुत आसान होता है मगर कई बार हमारा ध्यान उस पर नहीं जाता है.


धन्यवाद मित्रो जिसने हमारी यह कहानी (Kahani) अंत तक पढ़ी और हमें कमेंट करके जरूर बताइए की आज आपने यह कहानी से क्या सीखा और अगर आपको हमारी यह स्टोरी (Story)पसंद आए तो आप हमारी वेबसाइट Moral Hindi Storyपर जाके इस तरह की और कई कहानिया पढ़ सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *