Pari Ki Kahani – Jadui Kahani – Hindi Fairy Tales For Kids

Pari Ki Kahani– आप सब का फिर से स्वागत है हमारी वेबसाइट Moral Hindi Story पर.आज हम आपको एक कहानी सुनने वाले है जो है एक Jadui Pari Ki kahani For Kids. जिसमे हम आपको बताने वाले है एक परी के जादू के बारे में तो चलो चलते हे कहानी पर.

 

Pari Ki Kahani – Jadui Kahani

 

एक समय की बात है. उस समय आज की जैसे तरह तरह की मिठाइयां और चॉकलेट नहीं मिला करते थे. बच्चों की मां, दादी या नानी उनके लिए कुछ अलग अलग प्रकार की मिठाइयां बनाया करती थी. जिससे वह बहुत प्यार से खाते थे.

रामू की नानी भी उनके लिए खूब सारे लड्डू बनाया करती थी. यह लड्डू राम को बहुत प्रिय थे. इसको खाने के लिए रामू नानी मां की हर बात भी मान जाया करता था. रामू के माता-पिता बहुत पहले आए तूफान में मर चुके थे. रामू के पास केवल अब नानी मा ही बची थी. एक बार नानी मां बहुत बीमार हो गई और कई बाहर काम करने भी ना जा पाई. जिस कारण से घर में खाने के लिए कुछ भी ना बचा. आज रामू को बहुत भूख लग रही थी. वह नानी मां के पास जाकर भूख से रोने लगा. नानी मां ने कहा प्यारे बेटे रो मत. बाहर खेत में जाओ वहां जो भी मिले काट कर घर पर ले आओ. मैं तेरे लिए लड्डू जरूर बना दूंगी.

Best Moral Stories In hindi

रामू नानी मां की बात मान कर खेत में चल पड़ा. कुछ आगे जाने पर उसे बड़ी-बड़ी काश दिखाई दे. रामू छोटा सा बच्चा था उसने सोचा नानी मां ने कहा है कि जो मिले वह ले आना, तो क्यों ना मैं इसे ही काट कर ले चलूं और वह कहां से काटने लगा. उसने काफी सारी घास काट ली. वापस आते समय उसने देखा कि एक बकरी अपने छोटे से बच्चे के लिए खाने को कुछ खोज रही है. तो रामू ने कुछ ताजी घास उसे दे दी. बकरी ने रामू को बहुत आशीर्वाद दिया.

Kauwa Aur lomadi Ki kahani

कुछ आगे जाने पर एक गाय मिली वह भी बहुत भूखी थी. वह भी रामू को देख रही थी. गाय के पैर में घाव था. घाव के कारण गाय खाने के लिए भी नहीं जा सकती थी. उसके पास अब थोड़ी सी ही घास बची थी तो उसने देखा की एक घोड़ा भी उदास सा बैठा है और उसके मालिक उसे बांधकर बिना खाना दिए ही कहीं पर चले गए थे. अब दयालु रामू ने बची हुई सारी घास उसको घोडे को दे दी. और चुपचाप नानी मां के पास आकर बैठ गया. नानी ने पूछा अरे बेटे तुझे कुछ मिला नहीं? तो रामू ने उदास होकर कहा नानी मां अब मुझे भूख नहीं लग रही है और वह नानी मां के पास आकर सो गया और नानी मां की भी उस रात बीमारी के कारण मौत हो गई. अब रामू बहुत अकेला था.

रामू का यह स्वभाव परी बड़े ही दिनों से देख रही थी. तभी वह परी रामू के पास आ जाती है और वह रामू को जगाती है. और अपने गोद में बिठा आती है. रामू को उसने भरपेट खाना खिलाया. परी ने कहा मैं तुमसे बहुत प्रसन्न हूं. बोलो रामू तुम्हें क्या चाहिए? रामू ने कहा परी मुझे बस लड्डू चाहिए रोज. परी जोर से हंसने लगी और बोली प्यारे राम तुम सिर्फ दयालु ही नहीं बहुत भोले भी हो. मैं तुमसे बहुत प्रसन्न हुई और तुम्हें पूर्ण तरह से संतुष्टि का वरदान देती हूं. दिन में एक बार जो चाहोगे वह हो जाएगा. सब की मदद करो. अगर किसी का बुरा चाहा तो यह वर हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा.

Akbar Birbal Ki kahani

रामू परी की यह बात सुनकर बहुत खुश हुआ. वह अगले ही दिन उसने कहा मेरी नानी मां ठीक हो जाए और नानी मां स्वस्थ हो गई और जिंदा भी हो गई. अगले दिन उसने घर मांग लिया. फिर खाना, खिलौने, कपड़े इस तरह रोजी कुछ मांगता रहता था. पर अब पहले जैसा नहीं रहा था. बहुत आलसी हो गया था. किसी की इज्जत नहीं करता था. किसी पर दया नहीं करता था. बस रात दिन कल क्या मांगता है? वह सोचता रहता है.

एक दिन वहां पर एक गरीब आदमी अपने बच्चे को लेकर आया और बोला रामू तुम्हारे पास सब कुछ है, आज तुम मेरे बेटे के लिए स्वास्थ्य मांग लो. वह बहुत बीमार है. मेरे पास इलाज के लिए पैसे भी नहीं है. रामू ने तुरंत इंकार कर दिया और बोला अरे नहीं आज तो मुझे हलवा खाने का मन है. गरम-गरम हलवा खाने का मन है, तुम यहां से जाओ. भिखारी की तरह कुछ मांगो मत और बाहर जाओ और कुछ काम करो. कुछ ही देर में उस बच्चे की मौत हो गई. रामू को कोई दुख नहीं हुआ और उसने कहा मुझे गर्म गर्म गाजर का हलवा चाहिए बादाम वाला. पर कुछ भी ना हुआ. बार-बार रामू मांगता रहा, मगर उसको कुछ नहीं मिल रहा था. क्योंकि परी के कहे अनुसार रामू ने किसी की मदद नहीं की इसलिए परी का वर हमेशा के लिए खत्म हो गया और रामू को भी मांगने के सिवा और कुछ भी नहीं आता था. इसलिए धीरे-धीरे उसकी सारी संपत्ति खत्म हो गई और वह मांग मांग कर जिंदगी बिताने लगा.

सिख : इस कहानी से हमें यह सिख मिलती है की हमें हमारा स्वभाव कभी नहीं छोड़ना चाहिए और एक दूसरे की मदद भी करनी चाहिए. अगर किसि के बुरे वक्त में हम किसी की मदद करेंगे तो कोई हमारे बुरे वक्त में मदद करेगा.

अगर आपको हमारी यह Jadui Pari Ki Kahani अच्छी लगी ही तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है और अगर आप कोई दूसरी कहानी के बारे में जानना चाहते है तो आप हमें बता सकते है हम आपके लिए नै नै कहानी लाते रहेंगे. आप सभी का धन्यवाद हमारे Pari Ki kahani पढ़ने के लिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *