Ganesh ji Aarati – गणेश जी की आरती जय गणेश जय गणेश देवा

Ganesh ji Aarati : गणेश जी की आरती (Ganesh Ji Aarati) का एक अपने आप में विशेष महत्व है. गणेश जी की आरती पढ़ने से पहले थोड़ा हम गणेश जी की बारे में भी जान लेते हे तो चलिए जानते हे गणेश जी के बारे में थोड़ा विस्तार से.

 

भगवान गणेश सभी हिंदू भगवानों में एक सर्वोच्च स्थान रखते हैं। समृद्धि, बुद्धि, धन, ज्ञान के देवता के रूप में जाने जाने वाले गणेश का सभी धर्मों के लोगों के दिलों में एक विशेष स्थान है। उन्हें सबसे अच्छे हिंदू देवताओं में से एक माना जाता है। उनकी आकर्षक और चुस्त छवि उनके भक्तों को काफी हद तक प्रेरित करती है। उन्हें क्षमा करने वाला और देवता को मानने वाला माना जाता है। यही कारण है कि उन्हें गणपति यानी लोगों के भगवान के रूप में नामित किया गया है। हाथी सबसे मजबूत, सौम्य और स्नेही जानवर है जो वास्तव में गणेश गुणों का प्रतिनिधित्व करता है। उनके हाथी के रूप का एक विशिष्ट संयोजन और एक छोटा माउस अविश्वसनीय तीक्ष्णता, शक्ति और मन की उपस्थिति का प्रतीक है।

Hanuman chalisa

निश्चित रूप से, गणेश की पूजा करने के कोई निर्धारित मानक नहीं हैं। वह किसी भी रूप में पूजनीय हो सकता है। उन्हें कई नामों से मंत्रों और प्रार्थनाओं में वर्णित किया जाता है जैसे विनायक (ज्ञान के देवता) या विघ्नेश्वरा (बाधाओं का निवारण)। पूरे देश में सभी गणेश त्योहार समान उत्साह और उत्साह के साथ मनाए जाते हैं। भारत में प्रसिद्ध गणेश मंदिरों की संख्या भी है।

 

गणों के भगवान: गणेश का नाम “गणपति

 

गा का अर्थ है ज्ञान

ना का अर्थ है मुक्ति

पति अर्थात भगवान

 

गणेश को व्यापक रूप से पूजा जाता है और जनता के बीच सबसे लोकप्रिय देवता हैं। एक चूहे की सवारी, गणेश बड़े के साथ छोटे के तुल्यकालन को दर्शाता है। बाधाओं को दूर करने में शक्तिशाली होने के कारण, लगभग सभी समारोहों और अवसरों की शुरुआत भगवान गणेश की पूजा से होती है। जैसा कि निष्ठा, शांति और प्रतिभा का प्रतीक है, भगवान गणेश को धन और ज्ञान के देवता के रूप में जाना जाता है। चूहा और हाथी का मजबूत संयोजन सभी प्राणियों की अप्रत्याशित समस्याओं के किसी भी आकार से निपटने के लिए गणेश की क्षमता को दर्शाता है। यह माना गया है कि यदि भगवान गणेश की पूजा पहले नहीं की जाती है, तो पूजा की सभी प्रकृति वैध है। गणेश को अक्सर देवी सरस्वती और देवी लक्ष्मी के साथ मनाया जाता है जो इस जीत का प्रतीक है और सुंदरता हमेशा ज्ञान के साथ आती है।

 

Also Read : हनुमान चालीसा

 

गणेश चतुर्थी (Gansh Chaturthi) भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष तिथि की चतुर्थी को पड़ती है। गणेश जी की आरती को दोपहर के समय को करना शुभ माना गया है और इस मुहूर्त में गणेश जी की उपासना आरती क साथ करने से विशेष फल क भी प्राप्ति होती है। गणेश उत्सव क दौरान अपने घरो पर बड़े श्रद्धा भाव से गणेश जी की आरती करनी चाहिए तो इस लिये आज हम आपके लिए गणेश जी की आरती लेकर आऐ है तो इस (Ganesh ji Aarti)आरति का पाठ इस पवन अवसर पे करके उत्सव खास अंदाज में मन सकते है.

 

Ganesh Ji  Aarati – गणेश जी की आरती

 

श्लोक 

व्रकतुंड महाकाय, सूर्यकोटी समप्रभाः

निर्वघ्नं कुरु मे देव, सर्वकार्येरुषु सवर्दा

 

गणेश जी की पहली आरती:

 

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा

माता जाकी पारवती, पिता महादेवा…

 

एकदन्त, दयावन्त, चारभुजाधारी,

माथे पर सिन्दूर सोहे, मूसे की सवारी

 

पान चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा,

लड्डुअन का भोग लगे, सन्त करें सेवा,

 

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश, देवा

माता जाकी पारवती, पिता महादेवा

 

अंधन को आँख देत, कोढ़िन को काया,

बाँझन को पुत्र देत, निर्धन को माया

 

‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा,

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा

 

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश, देवा

माता जाकी पारवती, पिता महादेवा

 

दोहा :

 

श्री गणेश यह चालीसा पाठ करें धर ध्यान।

नित नव मंगल गृह बसै लहे जगत् सन्मान॥

 

सम्वत् अपन सहस्र दश ऋषि पंचमी दिनेश।

पूरण चालीसा भयो मंगल मूर्ति गणेश

 

गणेश जी की दूसरी आरती: Ganesh Ji Aarati – 2

 

सुख करता दुखहर्ता, वार्ता विघ्नाची

नूर्वी पूर्वी प्रेम कृपा जयाची

 

सर्वांगी सुन्दर उटी शेंदु राची

कंठी झलके माल मुकताफळांचीजय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति

 

दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति

जय देव जय देवरत्नखचित फरा तुझ गौरीकुमरा

 

चंदनाची उटी कुमकुम केशरा

हीरे जडित मुकुट शोभतो बरा

 

रुन्झुनती नूपुरे चरनी घागरियाजय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति

दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति

 

जय देव जय देवलम्बोदर पीताम्बर फनिवर वंदना

सरल सोंड वक्रतुंडा त्रिनयना

 

दास रामाचा वाट पाहे सदना

संकटी पावावे निर्वाणी रक्षावे सुरवर वंदनाजय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति

 

दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति

जय देव जय देवशेंदुर लाल चढायो अच्छा गजमुख को

 

दोन्दिल लाल बिराजे सूत गौरिहर को

हाथ लिए गुड लड्डू साई सुरवर को

 

महिमा कहे ना जाय लागत हूँ पद कोजय जय जय जय जय

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता

 

धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता

जय देव जय देवअष्ट सिधि दासी संकट को बैरी

 

विघन विनाशन मंगल मूरत अधिकारी

कोटि सूरज प्रकाश ऐसे छबी तेरी

 

गंडस्थल मद्मस्तक झूल शशि बहरीजय जय जय जय जय

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता

 

धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता

जय देव जय देवभावभगत से कोई शरणागत आवे

 

संतति संपत्ति सबही भरपूर पावे

ऐसे तुम महाराज मोको अति भावे

 

गोसावीनंदन निशिदिन गुण गावेजय जय जी गणराज विद्यासुखदाता

धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता

गणेश जी की स्तुति – Ganesh Ji Ki Stuti

 

गणपति की सेवा मंगल मेवा सेवा से सब विघ्न टरें।

तीन लोक तैंतीस देवता द्वार खड़े सब अर्ज करे ॥

 

ऋद्धि-सिद्धि दक्षिण वाम विरजे आनन्द सौं चंवर दुरें ।

धूप दीप और लिए आरती भक्त खड़े जयकार करें ॥

 

गुड़ के मोदक भोग लगत है मूषक वाहन चढ़े सरें ।

सौम्य सेवा गणपति की विघ्न भागजा दूर परें ॥

 

भादों मास शुक्ल चतुर्थी दोपारा भर पूर परें ।

लियो जन्म गणपति प्रभु ने दुर्गा मन आनन्द भरें ॥

 

श्री शंकर के आनन्द उपज्यो, नाम सुमरयां सब विघ्न टरें ।

आन विधाता बैठे आसन इन्द्र अप्सरा नृत्य करें ॥

 

देखि वेद ब्रह्माजी जाको विघ्न विनाशन रूप अनूप करें।

पग खम्बा सा उदर पुष्ट है चन्द्रमा हास्य करें ।

दे श्राप चन्द्र्देव को कलाहीन तत्काल करें ॥

 

चौदह लोक में फिरें गणपति तीन लोक में राज करें ।

उठ प्रभात जो आरती गावे ताके सिर यश छत्र फिरें ।

गणपति जी की पूजा पहले करनी काम सभी निर्विध्न करें ।

 

श्री गणपति जी की हाथ जोड़कर स्तुति करें ॥

 

ऐसी धार्मिक आरती और धार्मिक कहानी का नया उपडेट रोज पाने की लिए हमसे जुड़े रहिए Moral Hindi Story पर। हमारे द्वारा लिखे गए इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए हम आपके आभारी हे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *